वीरानियाँ

You may also like...

12 Responses

  1. मन के खिड़कियाँ दरवाजे कब बंद हुए हैं , कलम ले कर सब बह जाएगा , अच्छा प्रयास ।

  2. अंजू जी आपकी कविता मन के भावो को स्पष्ट कर रही है !
    बहुत सुंदर, बधाई !

  3. धन्यवाद शारदा जी और संतोष ……आपको मेरा लिखा पसंद आया

  4. बहुत ही खूबसूरत भाव हैं….. ऐसे ही लिखती रहें…. शुभकामनायेँ…..

  5. मन अभिमान में डोलती यह जिंदगी
    अपने ही स्वाभिमान को तोडती यह ज़िन्दगी
    बहुत सुन्दर
    क्या बात कही आप ने

  6. ehsas says:

    dil ko chu lene wali rachna. shubhkamnaye

  7. udas jindagi ko apne kalmo se khushiya bhar den…:)

    bahut khub!!
    kabhi samay mile to hamare blog pe tasreef layen…

  8. ऐसी निराशा क़ि बात कहे …… जीवन बहुत लम्बा है …. अच्छा लिखा है …

  9. जीवन के एक पक्ष को शब्द देने का अच्छा प्रयास

  10. Manobhavon ka achha chitran laga…

  11. Likhte rahiye… man ko bahut sukun milta hai.. tanhayee sab door hone lagegi… achha likhti hai aap! Meri Shubhkamnayen aapke saath…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *