वजह हो तुम …….

You may also like...

3 Responses

  1. viki says:

    Kese bhulu pal bhar ko bhi tumhe mujh hi se suru mujh hi se samapat ho tum. Bahut khub kya baat he adbhut

  2. ”कर दिया है बेताब दरिया की तरह” ये शब्द काफी बेचैन कर गए जैसे की कोई दरिया अपनी सीमायें भूलकर बहना चाहता हूँ,,,

  3. “जब ढूंढती हूँ कण कण मे, सबमे व्याप्त हो तुम” वास्तव मे “प्रेम” को देवता के रूप मे देखा जाय तो सचमुच कण कण मे व्याप्त है वो। क्या कहें शब्द चयन नायाब है। मन मे भाव उमड़ने से स्वमेव शब्द मानस पटल पर अंकित हो जाते हैं। सुन्दर रचना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *