मै जी लूंगी…मै जी लूंगी …….

You may also like...

2 Responses

  1. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

  2. सूक्ष्म पर बेहद प्रभावशाली कविता…सुंदर अभिव्यक्ति..प्रस्तुति के लिए आभार जी