खामोशिया

You may also like...

5 Responses

  1. अनुराधा जी बहुत खूब रचना,पढने के बाद खामोश भी नहीं रहा जाता !!

  2. aap bahut achha likhti ho anju ji
    dil ko choo jata hai
    aapki is kala ko salaam dost

  3. behtareen likha hai aapne …

  4. “मिल के जो हमने जलाया वो दोस्ती का दीया आज भी है”भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति……। आभार!