अजन्मी बच्ची की पुकार ………

You may also like...

7 Responses

  1. भ्रूण्हत्या पर आप की अभिव्यक्ति निश्चित रूप से भाव प्रधान है.
    ऐसा नहीं होना चाहिए, फिर क्यों होता है ?
    इस पर आत्म अवलोकन की आवश्यकता है
    – विजय

  2. ρяєєтι says:

    कहते है न् .. स्त्री ही स्त्री की दुश्मन .. जब तक स्त्री अपना महत्व नहीं समझेगी , नहीं जानेगी यह होता रहेंगा …
    I am very much proud that I have a Daughter….

  3. ilesh says:

    sundar abhivakti….preeti ji ki baat sahi he aur stri ko apne astitv ke liye khud hi jagrut hona padega….

  4. HARI SHARMA says:

    आपके द्वारा अजन्मी बिटिया के लिए लिखी गयी ये छोटी कविता बड़ी अर्थवान और दिल को छोने बाली है.

  5. Pintu says:

    I’m sorry I can’t tell you what
    I’m sure you’d rather hear,
    But there’s a burden in my heart
    I can no longer bear.

  6. neera says:

    सच यार आज कल हर जगहे यही हो रा है….बड़ा दिल दुखता है….
    क्या लिखती हो यार….सीधा दिल में लगता है…ओरत ही ओरत की दुश्मन बनी बैठी है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *