Category: कविता

अरमानो के पंख लगा ….उड़ने दो ……………

अरमानो के पंख लगा ….उड़ने दो ……………

उड़ने दो ..उड़ने दो खुले आसमा में ,अरमानो के पंख लगा ….उड़ने दो ,जंहा सारा आसमा मेरा हो ,जंहा ना बंदिशों का डेरा हो …भले मिले ना इन राहो पे फूल तो ,उनके काँटों...

रंगों कि भरी दुनिया मे बदरंग हो चुकी हूँ …………….

रंगों कि भरी दुनिया मे बदरंग हो चुकी हूँ …………….

एक ऐसी लड़की …एक ऐसी औरत ..जो अपने प्यार मै अंधी हैजिसे नहीं पता की उसका अंजाम क्या होने वाला हैउस पीडा को अपने शब्दों में ढलने का प्रयास किया है …………………….……………………………………………………………………………………………………………………………………. रंगों कि...

एक बेटी का अपनी माँ को स्नहे भरा तोहफा ………………………………………………. ………………माँ हर एक को जीवन में सिर्फ एक बार मिलती है !जिसे कोई उपमा न दी जाये वोह है माँ …..जिसकी कोई सीमा नहीं...

प्यार ………..

प्यार ………..

प्यार …….ये वोह शब्द है जो अधूरा होते हुए भी अपने आप मे..पूर्ण हैप्रेम अजेर अमर है !गंगा जल समान …प्रेम राधा है ..प्रेम मीरा है ….प्यार वोह प्याला हैजिस ने पिया …बस उस...

तुम से ..हम मिले…………

तुम से ..हम मिले…………

राह मे अकेलेजो तुम चले…फिर तुम से ..हम मिलेसाथ मिल कर …थाम के हाथ मेरा ..नयी राहो पे हम साथ चले ….नजरो के रास्ते ..तुम हो दिल मे बसेवफ़ा की मूरत …जफा की सूरत..लिए...

अलविदा 2008***शुभ आगमन २००९…………

अलविदा 2008***शुभ आगमन २००९…………

अलविदा 2008***शुभ आगमन 2009…….ख़ुशी ख़ुशी करो विदा इस साल को (2008 )करो स्वागत बाहें फैला कर नए साल का …(2009)लाये नया साल सब के लिए खुश्यियो भरी सोगातमिटा कर पुराने गिले शिकवे सभी से...

टुकडो में बंटी जिन्दगी को हम मिल कर जी ले ………….

टुकडो में बंटी जिन्दगी को हम मिल कर जी ले ………….

टुकडो में बंटी जिन्दगी को जी ले ..एक चेहरे पे ,रख दूसरा चेहरा तू ,अगर जीना है मन मुताबिक तो ,रख विश्वास खुद पेऔर जी के देख मेरे संग कल्पना कि दुनिया को ,अब...

उड़ मेरे संग कल्पनाओ के दायरे मे ………….

उड़ मेरे संग कल्पनाओ के दायरे मे ………….

उड़ मेरे संग कल्पनाओं के दायरे मेखुद को खो मुझ मे समाने देचाहतो के दायरे को और बढ़ जाने देजज्बातों के साथ बहने देजो बात ना कह सका उसे कहने देखयालो को और रंग...

जीवन साथी …………….

जीवन साथी …………….

ज़िन्दगी की राहों पे……हम चले थे साथ मिल करतुम से मुझे हर ख़ुशी मिलीदोस्ती मिली उम्र भर कीओर मिला साथ जन्मो कावक़्त बदला……मै ठहरी रहीतुम आगे बढते रहेज़िन्दगी की राहों पेमैंने तलाशती रही तुम्हेतुम...