Monthly Archive: July 2011

क्या पाया क्या खोया है …. 38

क्या पाया क्या खोया है ….

क्या पाया क्या खोया है …. कभी सोचा था किवक़्त को कसके मुट्ठीमें बांधूंगी !ये जानते हुए भी –ना वक़्त रुकता हैन रात रूकती हैना रुके ये सुबहन दिन न शाम ………फिर भी यादे...

आज की ताज़ा खबर 26

आज की ताज़ा खबर

आज की ताज़ा खबर टीवी का शोरदिमाग है गोललिखने का है मनपर सूझता नहीं कुछकैसे कुछ सोचूंकैसे कुछ नया लिखूंयहाँ तो बसनई पुरानी फिल्मो काहै संगअमिताभ के गानेसंजय दत्त कीढिशुम ढिशुमगोविदा के लटकेझटकेहाय अब...

बचपन हमारा 39

बचपन हमारा

बचपन हमारा खुले खेत ..कच्ची पगडण्डीखेतो में पानीलगती फसलउस राहा…भागताबचपन हमारा पेड़ पर झूलारुक कर उस में ..झूलता बचपन हमाराअमुया का पेड़ ..पेड़ की छायाबसते को फेंकताबचपन हमारा कच्ची अम्बीझुकती डालीडाल पे कूकतीकोयल काली...

44

मै……. मै हसंती बहुत हूँ नाथोड़ी सी पागल ,थोड़ी सी दीवानीथोड़ी सी शोखीसे भरीफिर उसी पलकुछ उदास सीथोड़ी थोड़ीनादान सीओर पल मेंसमझदार भीकैसे कहूँ खुद कोकि मै क्या हूँकुछ कुछ प्यासी सीखुद में भरी...