रंगों कि भरी दुनिया मे बदरंग हो चुकी हूँ …………….


एक ऐसी लड़की …एक ऐसी औरत ..जो अपने प्यार मै अंधी है
जिसे नहीं पता की उसका अंजाम क्या होने वाला है
उस पीडा को अपने शब्दों में ढलने का प्रयास किया है …………………….
…………………………………………………………………………………………………………………………………….

रंगों कि भरी दुनिया मे बदरंग हो चुकी हूँ …….
भोग के रोग को इस जीवन मे भोग चुकी हूँ
अब जीने कि इच्छा को खो सी चुकी हूँ
जिंदगी के मेले में ख़ुशी भी मिली ..गमो के लिफाफे में
जीवन के सतरंगी आसमा में ……
इन वीरान राहो का मै..क्या करू ,
जब उतरा जवानी का नशा तो ,
अपने मन कि घुटन का मै क्या करू ,
बहुत संभाला था अपने को
पर भावनायो के समंदर में
मै खुद को डुबो चुकी हूँ …..
तेरे ही साथ जीने कि लालसा ने ……
मुझे अपनों से किया जुदा है
अब आँखों में आंसू लिए ,
दर दर भटक रही हूँ …
मै डाली से टूटा वोह फूल हू ..
जो पूजा के काबिल नहीं ……
समुन्द्र कि वोह लहर जिसका ,
किनारा भी अपना नहीं ……
अपने मन के मंथन को ,कैसे मै शांत करू …..
तन ,धन ,यौवन का ..ना जाने कब नाता छुटे
अपने मन के मंथन को ,कैसे मै शांत करू …..
रंगों कि भरी दुनिया मे बदरंग हो चुकी हूँ ………..
(……कृति……अनु……)

Anju Choudhary

प्रकाशित काव्य संग्रह: …’’क्षितिजा’’ ‘’ऐ री सखी’’ ‘’ठहरा हुआ समय’’ संपादन: १. “कस्तूरी” “अरुणिमा” ‘’पगडंडियाँ’’ ‘’गुलमोहर’’ ‘’तुहिन और गूँज’’ प्रकाशित साझा काव्य संग्रह में मेरी भी कविताएँ…….अनुगूँज, शब्दों की चहलकदमी,नारी विमर्श के अर्थ,सुनो समय जो कहता है,काव्य सुगंध, आकाश अपना अपना (सभी साँझा कविता संग्रह ) मुट्ठी भर अक्षर (साँझा कहानी संग्रह )…समाचार पत्र और पत्रिकाओं से जुडाव:

4 thoughts on “रंगों कि भरी दुनिया मे बदरंग हो चुकी हूँ …………….

  • January 10, 2009 at 11:53 PM
    Permalink

    aap ki shabdo ki pida ..uski man ki baat jo rakhti hai vah ek ajeeb sa man main dard paida karte hai manthan man ka shaant hona ya karna yah jindgi ki ladaai hai jo aapne racha vah amulay hai ..aap ko is pida ko sahi rup dene ke liye vah isme ruh daalne ke liye badhaai anu ji …

  • January 11, 2009 at 11:43 AM
    Permalink

    Nari teri is peeda ki nar par he sari zimmedari , kiya jisne bhoga tujhe sadaa se, Nari man he itna komal itna nirmal nishchal bhabnao ke samandr me aabesh ke tufan me bahjata he. Or waqt nikal jane par har purush use bhul sa jata he kal tak jiske rup yovan ka jo tha pujari jise luta diya sab kuch sop diya tan man or apna yovan bahi lagi ek samay ke bad bekar bejan ek bechari kar diya use band ek pinjre me karne ghar ki rakhwali. Or chal diya kuch or pane ki lalsa man me liye kisi naye yovan ki talash me kisi. . .

  • January 11, 2009 at 11:50 AM
    Permalink

    Jab tak tu sab sahti he chup rahti he tab tak koi bat nahi, par jab aakar krodh me tune bhari kilkari kanp utha yah bhumandal tune prlay macha dali phir bhi tune jag ki khatir apni is shakti ko kabhi nahi bakhani.

  • January 24, 2009 at 12:40 AM
    Permalink

    yaar kya shabdchitra khenchaa hai jhakjhor ke rakh diya. bahut hee sadhe hue shabd, nirantartaa aur spast bhaav. dost tujhe salaam

Comments are closed.