प्यार ………..


प्यार …….ये वोह शब्द है जो अधूरा होते हुए भी अपने आप मे..पूर्ण है
प्रेम अजेर अमर है !गंगा जल समान …प्रेम राधा है ..प्रेम मीरा है ….प्यार वोह प्याला है
जिस ने पिया …बस उस का रसपान वही जाने !भीड़ मे प्यार है जिस के साथ वोह फिर भी अकेला है …और अकलेपन में है साथी उसका प्यार…सच्चा प्यार उस मोती समान ॥जो सुच्चा है पवित्र है ……….प्यार को परिभाषित ना करो दोस्तों ……ये अपनेआप मे है पूर्ण ……….
……………………………………………………………………………………………………………….

आँखों के रस्ते से जो दिल में उतरे हो ,
वही बसेरा तुमने बना लिया ,
चाहू या ना चाहू मै ,
फिर भी मेरा साथ तू ने पा लिया है ,
ये प्रेम की डगर पर मुझे साथ ले कर ,
चले हो मेरे मन के मीत ,
चलना साथ……….
देखो कही ……
भटक ना जायू…अटक ना जायू …खो ना जायू ,
इस दुनिया की भीड़ में ..
हे ! मेरे मीत ,प्रेम के गीत ,
दे कर अपनी आवाज़ ….
डालना मेरे पैरो में प्यार की बेडियाँ ,
मेरे चेतन तन और अव् चेतन मन में ,
तूने दिया तीन शब्द का गीत,
सत्यम,शिवम् ,सुन्दरम ………..
जिसने मुझे किया इस प्रेम मै पवित्र ……
प्रेम की परिभाषा में मेरा ,
तन तो राह साथ पर ,मन खोया हर बार !
थामना अब …….
क्यूंकि अब तो तन और मन की भाषा बदली सी है ,
इस जीवन को मान के नाटक …
दिया है सोंप अब तुझे ,
चाहे कठपुतली बना नचा ले ,
या दे मुझे भी ,सबकी नज़रो मे सम्मान …
ना दौलत का नशा ,ना है धन की है चाह मुझे
मिले जो तुझे से सच्चा प्यार ..
बस वही है मेरा अपना ……..
बस वही है मेरा अपना ……………
आँखों के रस्ते से जो दिल में उतरे हो ,
(……कृति….अनु……)

Anju Choudhary

प्रकाशित काव्य संग्रह: …’’क्षितिजा’’ ‘’ऐ री सखी’’ ‘’ठहरा हुआ समय’’ संपादन: १. “कस्तूरी” “अरुणिमा” ‘’पगडंडियाँ’’ ‘’गुलमोहर’’ ‘’तुहिन और गूँज’’ प्रकाशित साझा काव्य संग्रह में मेरी भी कविताएँ…….अनुगूँज, शब्दों की चहलकदमी,नारी विमर्श के अर्थ,सुनो समय जो कहता है,काव्य सुगंध, आकाश अपना अपना (सभी साँझा कविता संग्रह ) मुट्ठी भर अक्षर (साँझा कहानी संग्रह )…समाचार पत्र और पत्रिकाओं से जुडाव:

7 thoughts on “प्यार ………..

  • January 5, 2009 at 10:52 AM
    Permalink

    Pyar shabd to he adhura par jab piya mile to ho jaye pura . Jese shiv sang shiva mile to ban jata shivalay . . Radha sang shiyam milan se kahlata vrandavan. .

  • January 5, 2009 at 11:04 AM
    Permalink

    Jisne santh tera paa liya usne pyar apna paa liya. Ab tu kya chahegi na chahegi yah na samajh, pana hi to pyar he. Par khona bhi pyar hi he , ab jo he use hi man apna bas chah yah ki bow kya chahta he . Us par luta de sari khushi bant le uske sare gum kadam dar kadam. Jab tan he santh to manko na bhatkne dena. Tan or man ki sada ek hi paribhasa banaye rakhna. Chali chal sant uske jisse nata vidhata ne he joda man ise vidi ka vidhan chod apna swabhiman bus samarpit kar tan man use basa le apne andar uske praan luta de usi par apne sare arman

  • January 5, 2009 at 11:40 PM
    Permalink

    apna hale dil jahir mat karna
    khud ko jamane me bebikar mat karna
    log dost ban kar dusmani karte he
    har ajnavi chahre par aetwr mat karna
    bat muh se nlkli to aag sa felegi
    esk me kisi ko raj dar mat karna

  • January 5, 2009 at 11:43 PM
    Permalink

    kisi ko rahe hasti me gardish nahi milti
    thak kar beth jane se mahjeel nahi milti

  • January 5, 2009 at 11:50 PM
    Permalink

    estarha hasti par chha gaya koi
    dil ko is tarha bhaa gaya koi
    rasta jeendagi ka andhera tha
    chand tare bicha gaya koi
    mai abhi bhul bhi na paya tha
    lo phir yaad mujhe aa gaya koi
    kam le kar juban ka aankho se
    raaj dil ka datagaya koi
    band karte hi aankh vk
    beparda aa gaya koi…

  • January 6, 2009 at 3:40 PM
    Permalink

    pream shabd hi nahi ek raah hai jiwan ki jahan hum sab bhul khud ko bhul samrpit hote hai ek dusre ke …isko ganga jal kaho ya kuch bhi par yah ek nasha hai jisko karne ke baad hi insaan iski kadar karta hai …anu ji aap ki laikhni ki kalam par bahut achhi pakad hai aap yun hi likhti rahe yahi kamanna kai saath hum intazar karenge aur bhi jayda….

  • January 7, 2009 at 9:46 AM
    Permalink

    बहुत भावभीनी रचना ह्रदय की गहराईयों की आवाज़ शब्दों के प्रवाह में बह निकली है आपका स्वागत है …. मेरे ब्लॉग पर भी दस्तक दें

Comments are closed.