ये चुनावी माहौल ……



चुनावी दौर
लो जी ,फिर आया मौसम ,
चुनाव का
फिर से मुद्दों कि मुहीम छिडी…
फिर से शुरू हुई वोटो को मांगने की..भीख
हर प्रत्त्याशी ने अपने पत्ते है खोले
फिर से झूठे वादों का दौर आया …
कही तो बटे नोट …
तो कही हुआ गाली गलौच ..
का माहौल ..
फिर भी हर पॉँच साल बाद आये
ये चुनावी माहौल ……
जो उठा कांग्रेस का पंजा ..
तो डर के भागा हाथी….बहिन मायावती का
उडी नींद सभी की जो
जगी लालटेन लालू की …इन सभी की बीच
खिला जो फूल कमल का ……
ऐसा की जो आज तक कभी ना मुरझाया …
भले …..
ही पार्टी का हर कार्यकर्ता ..
आपस मे लड़ भीडे ….पर
हम नहीं सुधरेगे …इसे पे है सब अडिग…
लो जी ,फिर आया मौसम ,
चुनाव का ………….
.(…..कृति…अनु….)

Anju Choudhary

प्रकाशित काव्य संग्रह: …’’क्षितिजा’’ ‘’ऐ री सखी’’ ‘’ठहरा हुआ समय’’ संपादन: १. “कस्तूरी” “अरुणिमा” ‘’पगडंडियाँ’’ ‘’गुलमोहर’’ ‘’तुहिन और गूँज’’ प्रकाशित साझा काव्य संग्रह में मेरी भी कविताएँ…….अनुगूँज, शब्दों की चहलकदमी,नारी विमर्श के अर्थ,सुनो समय जो कहता है,काव्य सुगंध, आकाश अपना अपना (सभी साँझा कविता संग्रह ) मुट्ठी भर अक्षर (साँझा कहानी संग्रह )…समाचार पत्र और पत्रिकाओं से जुडाव: